Sosial media

रविवार, 14 जुलाई 2013

इस बार सुनिए हरिशंकर परसाई की रचना 'चिरऊ महाराज' (स्‍वर यूनुस ख़ान)

"
'कॉफी हाउस' में आज हम पहली बार हरिशंकर परसाई की रचना प्रस्‍तुत कर रहे हैं।

शायद जबलपुर से ताल्‍लुक़ होने की वजह से हमारा परसाई जी और उनके व्‍यंग्‍य से गहरा अनुराग रहा है। ज़ाहिर है कि भविष्‍य में परसाई जी की और रचनाएं भी 'कॉफ़ी-हाउस' पर आयेंगी।

मुमकिन है कि प्रस्‍तुत रचना 'चिरऊ महाराज' कई लोगों ने ना पढ़ी हो।परसाई जी की कई ऐसी रचनाएं हैं जो बहुत मशहूर भले ना हुई हों (मशहूर होने का भी तो अपना समीकरण और तामझाम होता है) पर उनकी धार वैसी ही है। फिर याद दिला दें कि 'कॉफी हाउस' की रचनाओं को डाउनलोड और शेयर किया जा सकता है। हर रचना के नीचे हम डाउनलोड कड़ी दे रहे हैं। अगर कोई तकनीकी समस्‍या हो रही हो, तो कृपया फ़ौरन बताएं।

Story: Chirau Maharaj
Writer: Hari shankar parsai
Voice: Yunus khan
Duration: 12.20 Minutes



ये रही डाउनलोड कड़ी

इससे पहले की प्रस्‍तुतियां 'गिल्‍लू', 'चीफ़ की दावत', 'सयानी बुआ', 'एक छोटा-सा मज़ाक', 'काकी' डाउनलोड एवं सुनने के लिए उपलब्‍ध हैं। 'कॉफी हाउस' के ज़रिये हम हर रविवार एक नयी कहानी का पाठ करेंगे। तो मिलते हैं अगले रविवार।
"
'कॉफी हाउस' में आज हम पहली बार हरिशंकर परसाई की रचना प्रस्‍तुत कर रहे हैं।

शायद जबलपुर से ताल्‍लुक़ होने की वजह से हमारा परसाई जी और उनके व्‍यंग्‍य से गहरा अनुराग रहा है। ज़ाहिर है कि भविष्‍य में परसाई जी की और रचनाएं भी 'कॉफ़ी-हाउस' पर आयेंगी।

मुमकिन है कि प्रस्‍तुत रचना 'चिरऊ महाराज' कई लोगों ने ना पढ़ी हो।परसाई जी की कई ऐसी रचनाएं हैं जो बहुत मशहूर भले ना हुई हों (मशहूर होने का भी तो अपना समीकरण और तामझाम होता है) पर उनकी धार वैसी ही है। फिर याद दिला दें कि 'कॉफी हाउस' की रचनाओं को डाउनलोड और शेयर किया जा सकता है। हर रचना के नीचे हम डाउनलोड कड़ी दे रहे हैं। अगर कोई तकनीकी समस्‍या हो रही हो, तो कृपया फ़ौरन बताएं।

Story: Chirau Maharaj
Writer: Hari shankar parsai
Voice: Yunus khan
Duration: 12.20 Minutes



ये रही डाउनलोड कड़ी

इससे पहले की प्रस्‍तुतियां 'गिल्‍लू', 'चीफ़ की दावत', 'सयानी बुआ', 'एक छोटा-सा मज़ाक', 'काकी' डाउनलोड एवं सुनने के लिए उपलब्‍ध हैं। 'कॉफी हाउस' के ज़रिये हम हर रविवार एक नयी कहानी का पाठ करेंगे। तो मिलते हैं अगले रविवार।

17 टिप्पणियाँ:

  1. सुबह-सुबह परसाईजी की रचना युनूस महाराज की आवाज में सुनना अद्भुत अनुभव। जय हो।

    जाने-पहचाने लोग में यह रचना ’चिरऊ महाराज’ के नाम से है। परसाईजी ने इसमें अद्भुत संस्मरण लिखे हैं। इस संस्मरण का लिंक ये रहा:http://hindini.com/fursatiya/archives/305

    उत्तर देंहटाएं
  2. अपने सिद्धान्तों पर जीने का सुख धन की चकाचौॆध से बहुत आनन्दमयी होता है, अत्यन्त ही संप्रेषणीय कण्ठ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह..मजा आ गया..आपने ब्रजेन्द्र मोहन जी की याद ताजा कर दी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर यूनुस जी …परसाई जी की रचना आपकी आवाज में सुनकर बहुत अच्छा लगा . परसाई जी की रचना प्रस्तुत करने के लिए आप बधाई के पात्र हैं ….

    उत्तर देंहटाएं
  5. बड़ी मुसीबत है !

    अग़र किसी दिन किसी ज़रूरी काम में फँस जायें और थोड़ी-सी देर हो जाए यहाँ आने में, तो मुंह की बात पहले ही छीन लेते हैं प्रवीण और ब्रजेश जी जैसे लोग !

    जाइये, अब हम कुछ नहीं कहते आज !!

    - "डाक साब"

    उत्तर देंहटाएं
  6. पहली बार आप का कथा पाठ सुना,बहुत अच्छी प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  7. ऐसे सीधे सरल लोग अब कहाँ होते हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  8. साधुवाद के शब्‍द नहीं सूझ रहे हैं। इसे कहानियों का ऐसा खजाना बना देना कि आने वाली पीढियों जिन्‍हें शायद पढने में दिलचस्‍पी न हो, उन्‍हें भी हिंदी साहित्‍य से अनुराग हो जाये।
    बच्‍चों के लिये भी कहानियां रिकॉर्ड करो।
    आशीष देवलिया

    उत्तर देंहटाएं
  9. download नहीं कर पा रहा. कोई आसान लिंक रखिये..

    उत्तर देंहटाएं
  10. पहली प्रस्तुति गिल्लू आसानी से डाउनलोड हो गयी. फिर उस तरह का आसान लिंक नहीं मिल पा रहा है. DivShare से डाउनलोड करना बहुत आसान है. मेरा कनेक्शन धीमा है तो यह संभव नहीं लग रहा कि बिना डाउनलोड किये इसे निर्बाध सुना जा सके. आप मेरी चिंता से वाकिफ होंगे. शुक्रिया.

    उत्तर देंहटाएं
  11. डॉ. रमाकांत राय जी। डाउनलोड डिवशेयर से भी आसान है। आप पायेंगे कि डाउनलोड कड़ी पर क्लिक करते ही प्‍लेयर नये पेज पर खुलता है। वहां प्‍लेयर पर राइट क्लिक करके save audio as सिलेक्‍ट कीजिए। और मन मुताबिक सेव कर लीजिए। बस हो गया।

    उत्तर देंहटाएं
  12. फिर भी दिक्‍कत आए तो बताईयेगा। आप देखेंगे कि नयी पोस्‍ट में दो डाउनलोड कडियां हैं। डिव शेयर और आर्काइव डॉट ऑर्ग दोनों की।

    उत्तर देंहटाएं
  13. हरिशंकर परसाई जी की रचना चिरऊ महाराज यूनुस जी की असेअसज़ में

    उत्तर देंहटाएं
  14. हरिशंकर परसाई जी की रचना चिरऊ महाराज यूनुस जी की असेअसज़ में

    उत्तर देंहटाएं