Sosial media

रविवार, 27 अप्रैल 2014

गीताश्री की कहानी 'लबरी' (आवाज़ ममता सिंह की)

"
'कॉफी-हाउस' के ज़रिए हम हर रविवार लाते हैं एक कहानी का वाचन।

आज गीताश्री की कहानी 'लबरी' प्रस्‍तुत की जा रही है। गीताश्री पत्रकार और कथाकार हैं। 'चौपाल' और 'गोरिल्‍ला प्‍यार' जैसी यादगार
कहानियां देने वाली गीताश्री की प्रकाशित पुस्‍तकें हैं --'स्‍त्री आकांक्षा के मानचित्र', 'औरत की बोली', 'नागपाश में स्‍त्री' और 'सपनों की मंडी' (आदिवासी लड़कियों की तस्‍करी पर आधारित पुस्‍तक), 'प्रार्थना के बाहर और अन्‍य कहानियां'

'लबरी'...'कॉफी हाउस' पर अब तक पेश की गयी कहानियों में से सबसे बड़ी है। तकरीबन तैंतीस मिनिट की। इसलिए हम इसकी ऑडियो फ़ाइल दो खंड में एक साथ दे रहे हैं। ऐसा सुनने की सुविधा के लिए किया गया है। कई सप्‍ताह से हम लंबी कहानियों की प्रस्‍तुति का कोई तरीक़ा सोच रहे थे।

Stroy: Labri
Writer: Geeta Shree
Voice: Mamta Singh
Duration: 33:20
पहला भाग


दूसरा भाग


एक और प्‍लेयर ताकि सनद रहे
पहला भाग


दूसरा भाग


डाउनलोड लिंक
Download link part one 
और
Download link part two


एक और डाउनलोड लिंक
Download link part one 


ये भी कह दें कि 'कॉफी-हाउस' की कहानियों को आप डाउनलोड करके अपने मित्रों-आत्‍मीयों के साथ बांट सकते हैं। साझा कर सकते हैं। कोई समस्‍या है तो ये ट्यूटोरियल पढ़ें

अब तक की कहानियों की सूची- 
महादेवी वर्मा की रचना--'गिल्‍लू'
भीष्‍म साहनी की कहानी--'चीफ़ की दावत'
मन्‍नू भंडारी की कहानी-'सयानी बुआ'
एंतोन चेखव की कहानी- 'एक छोटा-सा मज़ाक़'
सियाराम शरण गुप्‍त की कहानी-- 'काकी'
हरिशंकर परसाई की रचना--'चिरऊ महाराज'
सुधा अरोड़ा की कहानी--'एक औरत तीन बटा चार'
सत्‍यजीत रे की कहानी--'सहपाठी'
जयशंकर प्रसाद की कहानी--'ममता'
दो बाल कहानियां--बड़े भैया के स्‍वर में
उषा प्रियंवदा की कहानी वापसी
अमरकांत की कहानी 'दोपहर का भोजन'
ओ. हेनरी की कहानी 'आखिरी पत्‍ता'
लू शुन की कहानी आखिरी बातचीत'
प्रत्‍यक्षा की कहानी 'बलमवा तुम क्‍या जानो प्रीत'
अज्ञेय की कहानी 'गैंगरीन'
महादेवी वर्मा का संस्‍मरण 'सोना हिरणा'
ओमा शर्मा की कहानी ग्‍लोबलाइज़ेशन
ममता कालिया की कहानी 
लैला मजनूं
प्रेमचंद की कहानी 'बड़े भाई साहब'
सूरज प्रकाश की कहानी 'दो जीवन समांतर'
कुमार अंबुज की कहानी 'एक दिन मन्‍ना डे'
अमृता प्रीतम की कहानी- 'एक जीवी, एक रत्‍नी, एक सपना'
जादू की सुनाई पापा की कहानी 'बादल भाई'
उदय प्रकाश की कहानी-'नेलकटर'
सूर्यबाला की कहानी 'दादी और रिमोट'
एस. आर. हरनोट की कहानी 'मोबाइल'
स्‍वयं प्रकाश की कहानी 'नीलकांत का सफर'
जादू की कहानी 'बदमाश कौआ'
प्रेमचंद गांधी की कहानी--'31 दिसंबर की रात''
रवींद्र कालिया की कहानी- 'गोरैया'।
अरविंद की कहानी 'रेडियो'
लक्ष्‍मी शर्मा की कहानी 'बातें'
हरिशंकर परसाई का व्‍यंग्‍य 'ठिठुरता हुआ गणतंत्र'
चंदन पांडे की कहानी 'मोहर'
कैलाश वानखेड़े की कहानी 'सत्‍यापित'
विभा रानी की कहानी 'मोहन जोदाड़ो की नंगी मूरत'
अमरकांत की कहानी 'पलाश के फूल'
उपेंद्रनाथ अश्‍क की कहानी 'डाची'।
ज्ञानरंजन की कहानी 'अमरूद का पेड़'
कुर्रतुल-ऐन-हैदर की कहानी- 'फोटोग्राफर' 
शशिभूषण द्विवेदी की कहानी --'छुट्टी का दिन' 
मनीषा कुलश्रेष्‍ठ की कहानी 'मौसम के मकान सूने हैं'
प्रभात रंजन की कहानी -'पत्र लेखक, साहित्‍य और खिड़की'
गुलज़ार की कहानी 'तकसीम'
गैब्रिएल गार्सिया मार्केज़ की दो कहानियां 'गांव में कुछ बहुत बुरा होने वाला है' और 'ऐसे ही किसी दिन' 

"
'कॉफी-हाउस' के ज़रिए हम हर रविवार लाते हैं एक कहानी का वाचन।

आज गीताश्री की कहानी 'लबरी' प्रस्‍तुत की जा रही है। गीताश्री पत्रकार और कथाकार हैं। 'चौपाल' और 'गोरिल्‍ला प्‍यार' जैसी यादगार
कहानियां देने वाली गीताश्री की प्रकाशित पुस्‍तकें हैं --'स्‍त्री आकांक्षा के मानचित्र', 'औरत की बोली', 'नागपाश में स्‍त्री' और 'सपनों की मंडी' (आदिवासी लड़कियों की तस्‍करी पर आधारित पुस्‍तक), 'प्रार्थना के बाहर और अन्‍य कहानियां'

'लबरी'...'कॉफी हाउस' पर अब तक पेश की गयी कहानियों में से सबसे बड़ी है। तकरीबन तैंतीस मिनिट की। इसलिए हम इसकी ऑडियो फ़ाइल दो खंड में एक साथ दे रहे हैं। ऐसा सुनने की सुविधा के लिए किया गया है। कई सप्‍ताह से हम लंबी कहानियों की प्रस्‍तुति का कोई तरीक़ा सोच रहे थे।

Stroy: Labri
Writer: Geeta Shree
Voice: Mamta Singh
Duration: 33:20
पहला भाग


दूसरा भाग


एक और प्‍लेयर ताकि सनद रहे
पहला भाग


दूसरा भाग


डाउनलोड लिंक
Download link part one 
और
Download link part two


एक और डाउनलोड लिंक
Download link part one 


ये भी कह दें कि 'कॉफी-हाउस' की कहानियों को आप डाउनलोड करके अपने मित्रों-आत्‍मीयों के साथ बांट सकते हैं। साझा कर सकते हैं। कोई समस्‍या है तो ये ट्यूटोरियल पढ़ें

अब तक की कहानियों की सूची- 
महादेवी वर्मा की रचना--'गिल्‍लू'
भीष्‍म साहनी की कहानी--'चीफ़ की दावत'
मन्‍नू भंडारी की कहानी-'सयानी बुआ'
एंतोन चेखव की कहानी- 'एक छोटा-सा मज़ाक़'
सियाराम शरण गुप्‍त की कहानी-- 'काकी'
हरिशंकर परसाई की रचना--'चिरऊ महाराज'
सुधा अरोड़ा की कहानी--'एक औरत तीन बटा चार'
सत्‍यजीत रे की कहानी--'सहपाठी'
जयशंकर प्रसाद की कहानी--'ममता'
दो बाल कहानियां--बड़े भैया के स्‍वर में
उषा प्रियंवदा की कहानी वापसी
अमरकांत की कहानी 'दोपहर का भोजन'
ओ. हेनरी की कहानी 'आखिरी पत्‍ता'
लू शुन की कहानी आखिरी बातचीत'
प्रत्‍यक्षा की कहानी 'बलमवा तुम क्‍या जानो प्रीत'
अज्ञेय की कहानी 'गैंगरीन'
महादेवी वर्मा का संस्‍मरण 'सोना हिरणा'
ओमा शर्मा की कहानी ग्‍लोबलाइज़ेशन
ममता कालिया की कहानी 
लैला मजनूं
प्रेमचंद की कहानी 'बड़े भाई साहब'
सूरज प्रकाश की कहानी 'दो जीवन समांतर'
कुमार अंबुज की कहानी 'एक दिन मन्‍ना डे'
अमृता प्रीतम की कहानी- 'एक जीवी, एक रत्‍नी, एक सपना'
जादू की सुनाई पापा की कहानी 'बादल भाई'
उदय प्रकाश की कहानी-'नेलकटर'
सूर्यबाला की कहानी 'दादी और रिमोट'
एस. आर. हरनोट की कहानी 'मोबाइल'
स्‍वयं प्रकाश की कहानी 'नीलकांत का सफर'
जादू की कहानी 'बदमाश कौआ'
प्रेमचंद गांधी की कहानी--'31 दिसंबर की रात''
रवींद्र कालिया की कहानी- 'गोरैया'।
अरविंद की कहानी 'रेडियो'
लक्ष्‍मी शर्मा की कहानी 'बातें'
हरिशंकर परसाई का व्‍यंग्‍य 'ठिठुरता हुआ गणतंत्र'
चंदन पांडे की कहानी 'मोहर'
कैलाश वानखेड़े की कहानी 'सत्‍यापित'
विभा रानी की कहानी 'मोहन जोदाड़ो की नंगी मूरत'
अमरकांत की कहानी 'पलाश के फूल'
उपेंद्रनाथ अश्‍क की कहानी 'डाची'।
ज्ञानरंजन की कहानी 'अमरूद का पेड़'
कुर्रतुल-ऐन-हैदर की कहानी- 'फोटोग्राफर' 
शशिभूषण द्विवेदी की कहानी --'छुट्टी का दिन' 
मनीषा कुलश्रेष्‍ठ की कहानी 'मौसम के मकान सूने हैं'
प्रभात रंजन की कहानी -'पत्र लेखक, साहित्‍य और खिड़की'
गुलज़ार की कहानी 'तकसीम'
गैब्रिएल गार्सिया मार्केज़ की दो कहानियां 'गांव में कुछ बहुत बुरा होने वाला है' और 'ऐसे ही किसी दिन' 

5 टिप्पणियाँ:

  1. अपनी हिम्मत तो शुरु में ही जवाब दे गयी – “दो खण्ड” / “तैंतीस मिनिट” के लेबल्स देखते ही !

    इच्छा ही नहीं हुई डाउनलोड करने की ।

    ( इन्टरनेट भी काफ़ी मँहगा है आजकल...... सुस्त रफ़्तार भी ! )

    आज की तेज़ रफ़्तार ज़िन्दगी में अब “कथा-पाठ” में भी सास-बहू सीरियल का सोप ओपेरा ?

    फ़िर कहीं से ताक़त जुटाई और सुन ही डाला......
    ......वो भी पूरा अन्त तक !!
    ( दाद तो दीजिये.........हमें ! )

    तैंतीस मिनिट कब बीते पता ही नहीं चला ।

    अद्भुत् !!

    पता नहीं जादू गीताश्री जी की लेखनी का था या रेडियोसखी जी की आवाज़ का !!!
    :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. ममता सिंह की आवाज़ में गीताश्री की कहानी सुनी। आवाज़ के जादू ने बाँध लिया। न जाने कितनी बार यह कहानी पहले भी पढ़ी है। मेरी प्रिय कहानी है। लेकिन ममता जी ने जैसे कहानी में जान डाल दी। जीवन की असली कथा लगने लगी। जैसे फ़िल्म देख रहे हों।

    उत्तर देंहटाएं
  3. Deshi mitti Ki sondhi mahak hai is kahani Mein...hypnotize kar dene wala charitra chitran...ek behtareen kahani ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. आप सभी का दिल से क्रिया ।इसी तरह सुनते रहिये कथा पाठ और अपनी तिक्रियाओं से अवगत कराते रहिये

    उत्तर देंहटाएं